http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ
Showing posts with label तुलसीदास. Show all posts
Showing posts with label तुलसीदास. Show all posts

नमामि भक्त वत्सलं-तुलसीदास

अत्रि मुनि का भगवान राम की स्तुति करना






नमामि भक्त वत्सलं . कृपालु शील कोमलं ..
भजामि ते पदांबुजं . अकामिनां स्वधामदं ..
निकाम श्याम सुंदरं . भवाम्बुनाथ मंदरं ..
प्रफुल्ल कंज लोचनं . मदादि दोष मोचनं ..
प्रलंब बाहु विक्रमं . प्रभोऽप्रमेय वैभवं ..
निषंग चाप सायकं . धरं त्रिलोक नायकं ..
दिनेश वंश मंडनं . महेश चाप खंडनं ..
मुनींद्र संत रंजनं . सुरारि वृन्द भंजनं ..
मनोज वैरि वंदितं . अजादि देव सेवितं ..
विशुद्ध बोध विग्रहं . समस्त दूषणापहं ..
नमामि इंदिरा पतिं . सुखाकरं सतां गतिं ..
भजे सशक्ति सानुजं . शची पति प्रियानुजं ..
त्वदंघ्रि मूल ये नराः . भजंति हीन मत्सराः ..
पतंति नो भवार्णवे . वितर्क वीचि संकुले ..
विविक्त वासिनः सदा . भजंति मुक्तये मुदा ..
निरस्य इंद्रियादिकं . प्रयांति ते गतिं स्वकं ..
तमेकमद्भुतं प्रभुं . निरीहमीश्वरं विभुं ..
जगद्गुरुं च शाश्वतं . तुरीयमेव केवलं ..
भजामि भाव वल्लभं . कुयोगिनां सुदुर्लभं ..
स्वभक्त कल्प पादपं . समं सुसेव्यमन्वहं ..
अनूप रूप भूपतिं . नतोऽहमुर्विजा पतिं ..
प्रसीद मे नमामि ते . पदाब्ज भक्ति देहि मे ..
पठंति ये स्तवं इदं . नरादरेण ते पदं ..
व्रजंति नात्र संशयं . त्वदीय भक्ति संयुताः ..


महर्षि तेरे एहसां को

धन्य है तुझको ए ऋषि तूने हमे जगा दिया

दया कर दान भक्ति का हमे परमात्मा देना

गाइये गणपति जगवंदन ,tulsidas


गाइये गणपति जगवंदन |
शंकर सुवन भवानी के नंदन ॥


गाइये गणपति जगवंदन ...


सिद्धि सदन गजवदन विनायक |


कृपा सिंधु सुंदर सब लायक॥


गाइये गणपति जगवंदन ...


मोदक प्रिय मुद मंगल दाता |
विद्या बारिधि बुद्धि विधाता॥


गाइये गणपति जगवंदन ...


मांगत तुलसीदास कर जोरे |
बसहिं रामसिय मानस मोरे ॥


गाइये गणपति जगवंदन ...