http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

Wednesday, September 7, 2016

भोर भए पनघट पे Satyam Shivam Sundaram - Bhor Bhaye Panghat Pe Mohe Natkhat Shyam - Lata...

  • भोर भए पनघट पे
     Satyam Shivam Sundaram
      Bhor Bhaye Panghat Pe Mohe Natkhat Shyam
      Lata..

    Bhor Bhaye Panghat Pe



     

  • भोर भये पनघट पे,
    मोहे नटखट शाम सताए..
    मोरी चुनरिया लिपटी जाये
    मै का करू है राम है हाई
    भोर भये पनघट पे
    मोहे नटखट शाम सताए
    मोरी चुनरिया लिपटी जाये
    मै का करू है राम है हाई है
    भोर भये पनघट पे

    कोई सखी.. सहेली.. नही
    संग मै अकेली
    कोई देखे तोह यह जाने
    पनिया भरने के बहाने घागरी उठाये
    राधा शाम से मिलने जाए..
    भोर भये पनघट पे
    मोहे नटखट शाम सताए
    मोरी चुनरिया लिपटी जाये
    मै का करू है राम है हाई है
    भोर भये पनघट पे

    आये पवन झकोरा
    टूटे अंग अंग मोरा
    चोरी चोरी चुपके चुपके
     
  • बैठा कही पे वोह चुपके
    देखे मुस्काए
    निर्लज को हा हा
    निर्लज को लाज न आवे
    भोर भये पनघट पे
    मोहे नटखट शाम सताए
    मोरी चुनरिया लिपटी जाये
    मै का करू है राम है हाई है
    भोर भये पनघट पे

    मै ना मिलु.. डगर मै
    तोह वोह चला आये.. घर मै
    मै दू गली,मै दू चिद्की,
    मै न खोलू खिड़की
    नींदिया जो आये
    तोह वोह कंकर मर जगाये
    भोर भये पनघट पे
    मोहे नटखट शाम सताए
    मोरी चुनरिया लिपटी जाये
    मै का करू है राम है हाई है

    भोर भये पनघट पे


1 comment: