http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

Friday, September 2, 2016

अपने दिल का हाल सुनावन आयां हां

अपने दिल का हाल सुनावन आयां हां
म्हें तो म्हारा श्याम ने रिझावन आया हां

भजन सुणास्यां महिमा गास्यां, श्याम की जय जयकार लगास्यां
भूल चूक की माफ़ी माँगा, रुस्योड़ो घनश्याम मनास्यां
अपने प्रीतम ने हो हो हो हो हो हो हो हो
अपने प्रीतम ने मनावन आयां हां
म्हे तो म्हारा श्याम ने रिझावन आया हां

श्याम हमारो दिल वालो है, पर थोड़ो सो नखराळो है
इकि बातां म्हें जाना हां, यो तो म्हारो घर वालो है
घर के मालिक से बतलावण आया हां
म्हे तो म्हारा श्याम ने रिझावन आया हां

सुख को साथी यो जग सारो, दुःख को साथी श्याम हमारो
श्याम ही बिगड़ी बात बनावे, म्हाने श्याम को खूब सहारो
उलझी गाठयां ने, सुलझावन आयां हां
म्हे तो म्हारा श्याम ने रिझावन आया हां

यो जीवन नैया को माझी, श्याम मिजाजी हो जा राजी
बिन्नू है चरणां को सेवक, टाबर से क्यांकि नाराजी
आंसूंडा की भेंट चढ़ावण आयां हां
म्हे तो म्हारा श्याम ने रिझावन आया हां

No comments:

Post a Comment