http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

Wednesday, July 27, 2016

माता तेरे चरणों में , स्थान जो मिल जाये।


माता तेरे चरणों में
माता तेरे चरणों में , स्थान जो मिल जाये।
यह जीवन धन्य बने, वरदान जो मिल जाये॥

सुनते हैं कृपा तेरी, दिन-रात बरसती है।
श्रद्धालु ही पाते हैं, दुनियाँ तो तरसती है॥
एक बूँद हमें दो माँ, किस्मत ही बदल जाये॥

ये मन बड़ा चंचल है, पूजन में नहीं लगता।
यह इतना भोला है, संसार इसे ठगता॥
समझायें इसे जितना, उतना ही मचल जाये॥

माँ के चरणों में तू, नित ध्यान लगाया कर।
पाना है मोक्ष अगर, उसमें खो जाया कर॥
मन में वह प्यार जगा, माँ में ही समा जाये॥

देवत्व के फूलों से, माता झोली भर दो।
सब दोष हटा दो माँ, बस निर्मल मन कर दो॥
जीवन भी सुगन्धित हो, दुर्गन्ध निकल जाये॥
मुक्तक :-
माता के चरणों में, शत्-शत् बार नमन है।
माता का दुलार पाये बिन, क्या जीवन है।।
माता हमें प्यार देना, सद्गुण भी देना।

No comments:

Post a Comment