http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

Friday, July 15, 2016

गुरु मेरी पूजा गुरु गोविंदा

गुरु मेरी पूजा गुरु गोविंदा


जित बिठरावे.. तित ही बैठूँ, जो पहरावे.. सोई सोई पहरूं,
मेरी उनकी, प्रीत पुरानी, बेचें तो बिक जाऊँ....
गुरु मेरी पूजा, गुरु गोविंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत...
गुरु मेरा देव, अलख अभेवो, सर्व पूज.. चरण गुरुसेवो,
गुरु मेरी पूजा, गुरु गोविंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत...
गुरु का दरशन, वेख-वेख जीवां, गुरु के चरण.. धोये-धोये पीवां,
गुरु बिन अवर, नहीं मैं थाऊं, अनगिन जपहुं, गुरु-गुरु नाऊं..
गुरु मेरी पूजा, गुरु गोविंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत...
 


गुरु मेरा ज्ञान, गुरु हृदय ध्यान, गुरु गोपाल, तुरत भगवान,
गुरु मेरी पूजा, गुरु गोविंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत...
ऐसे गुरु को... बल-बल जाइये... आप मुक्त, मोहे तारे,
गुरु की शरण, रहो कर जोड़े, गुरु बिना... मैं नाहीं हौर,
गुरु मेरी पूजा, गुरु गोविंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत...
गुरु बहुत, तारे भव पार, गुरु सेवा.. जम ते छुटकार,
गुरु मेरी पूजा, गुरु गोविंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत...
अंधकार में, गुरुमंत्र उजारा, गुरु के संग.. सकल विस्तारा,
गुरु मेरी पूजा, गुरु गोविंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत...
गुरु पूरा.. पाइयै बड़भागी, गुरु की सेवा.. दुख ना लागी,
गुरु मेरी पूजा, गुरु गोविंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत...
गुरु का शबद, ना मेटे कोई, गुरु नानक-नानक, हर सोई,
गुरु मेरी पूजा, गुरु गोविंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत...
ओ॰॰ गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत...




No comments:

Post a Comment