http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

Thursday, June 2, 2016

यहाँ वहाँ जहा वहाँ Yahan Wahan Jahan Wahan- Jai Santoshi Maa 1974- Song- Navratri Bhajans S...

यहाँ वहाँ जहा  वहाँ ,
Yahan Wahan Jahan Wahan,


     

भजन 

यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ मत पूछो,कहा कहा
है संतोषी माँ अपनी संतोषी माँ अपनी संतोषी माँ
जल में भी पल में भी,
चल में अजल में भी अटल में भी
है संतोषी माँ अपनी संतोषी माँ……….
बड़ी अनोखी चमत्कारिणी ये अपनी माई…||
राई को पर्वत कर सकती पर्वत को राई ||
दुवार खुला है दरबार खुला है
आओ बहन भाई इसके घर कभी
दया की कमी नहीं आयी
पल में निहाल करे दुःख का निकाल करे
तुरंत कमल करे अपनी संतोषी माँ
अपनी संतोषी माँ अपनी संतोषी माँ
यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ मत पूछो,कहा कहा
है संतोषी माँ अपनी संतोषी माँ अपनी संतोषी माँ
जल में भी पल में भी,
चल में अजल में भी अटल में भी
है संतोषी माँ अपनी संतोषी माँ|

No comments:

Post a Comment