http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

Friday, June 24, 2016

स्वर्ग नरक हैं इस धरती पे Swarg Nark Sab Is Dharti Pe by Anup Jalota - With Lyrics - Ram Bhajan - ...

स्वर्ग नरक हैं इस धरती  पे ,
 Swarg Nark Sab Is Dharti Pe
 by Anup Jalota

 

bhajan



स्वर्ग नर्क है इस धरती पर
नही गगन के देखो पार
अच्छा करम तो सुख देवे है
बुरा करम है दुःख का सार

स्वर्ग नर्क सब इस धरती पे
नही गगन के देखो पार

अच्छा करम तो सुख देवे है
बुरा करम है दुःख का सार


जो दुःख पाता प्रभु से कहता
क्यूँ प्रभु तुम दुःख देते हो
हमने किया नही कुछ ऐसा
फिर क्यूँ नही सुख देते हो

याद नही है उस प्राणी को
जनम जनम के पाप का भार
अच्छा करम तो सुख देवे है
बुरा करम है दुःख का सार

स्वर्ग नर्क है इस धरती पे
नही गगन के देखो पार
अच्छा करम तो सुख देवे है
बुरा करम है दुःख का सार

एक फकीर जो नंगा सोवे
तन ढकने को नही बसन
दुःख सह के मन निर्मल होगा
कर ले कर ले पीड़ सहन

दंड भोग के पाप कटेगा
कारगर बना संसार
अच्छा करम तो सुख देवे है
बुरा करम है दुःख का सार

स्वर्ग नर्क है इस धरती पे
नही गगन के देखो पार
अच्छा करम तो सुख देवे है
बुरा करम है दुःख का सार

सुख दुःख दोनो एक समान
दोनो प्रभु का है वरदान
अंधकार तो, दिन भी संग में
यही प्रभु का परिचय ज्ञान

प्रभु का सुमिरन नारायण कर
दुःख का जो करता संहार
अच्छा करम तो सुख देवे है
बुरा करम है दुःख का सार

स्वर्ग नर्क है इस धरती पे
नही गगन के देखो पार
अच्छा करम तो सुख देवे है
बुरा करम है दुःख का सार

बुरा करम है दुःख का सार
बुरा करम है दुःख का सार


No comments:

Post a Comment