http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

Monday, June 27, 2016

मेरो मन अनत कहाँ सुख पावे mero man anat kaha sukh pave सूरदास का भजन




मेरो मन अनत कहाँ सुख पावे,
  mero man anat kaha sukh pave ,



 सूरदास  का भजन,  

मेरो मन अनत कहाँ सुख पावै।
जैसे उड़ि जहाज की पंछी, फिरि जहाज पै आवै॥
कमल-नैन को छाँड़ि महातम, और देव को ध्यावै।
परम गंग को छाँड़ि पियासो, दुरमति कूप खनावै॥
जिहिं मधुकर अंबुज-रस चाख्यो, क्यों करील-फल भावै।
'सूरदास' प्रभु कामधेनु तजि, छेरी कौन दुहावै॥मेरो मन अनत कहाँ सुख पावै।

No comments:

Post a Comment