http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

Tuesday, June 14, 2016

राधा रमण सरकार, तूने कैसा जादू फेरा,

राधा रमण सरकार, तूने कैसा जादू फेरा,
मेरा दिल रहा ना मेरा, हो गया तुमसे प्यार


मेरे राधा रमण सरकार, हो गया तुमसे प्यार


चाँद सा सलोना एक चेहरा,
दिल में उतर गया गहरा ।
बरबस ही दिल लूट के ले गया,
लाख बिठाया मैंने पहरा,
लागे तोरे संग नैना, जागूँ सारी सारी रैना
जीना हुआ है दुशवार, सरकार...




नटवर भेष बना के,
टेडी सी पाग सजा के ।
कदम्भ की छैया नीचे
नाचत मुरली बजाके ।
मधुर अमधुर डोले, कानो में रस घोले
पायल की मीठी झंकार, सरकार...




चाहे साँझ चाओ हो सवेरा,
मुख में सदा हो नाम तेरा ।
करुणा करके दीजिए मोहे,
चरणन माहि बसेरा ।
राधिका रमण गाऊं, जहा जाऊं तुम्हे पाऊँ
कीजिए यही उपकार, सरकार...




मेरे राधा रमण सरकार
मेरे राधा रमण, मेरे राधा रमण सरकार

No comments:

Post a Comment