http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

Monday, April 4, 2016

मन मोहना बड़े झूठे,

मन मोहना बड़े झूठे,
हार के हार नहीं माने |

बन के खिलाडी पिया,
निकले अनाड़ी |
मोसे बईमानी की,
मुझ से ही रूठे ||

तुम्हारी यह बंसी कहना,
बनी गल फंसी |
तान सूना के मेरा,
तन मन लूटे ||

No comments:

Post a Comment