http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

25.8.15

पायोजी मैंने राम रतन धन पायो payoji mene ram ratan dhan payo

मीरा बाई का भजन 

पायोजी मैंने राम रतन धन पायो....

वस्तु अमोलक दी मेरे सतगुरु किरपा करि अपनायो...

जनम जनम की पूंजी पाई जग में सभी खोवायो...

खरचे न खूटे चोर न लूटे दिन दिन बढत सवायो...

सत की नाव खेवटिया सतगुरु भवसागर तरि आयो...

मीरा के प्रभु गिरिधर नागर हरषि हरषि जस गायो......


पायोजी मैने राम रतन धन पायो


...