http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

Sunday, July 19, 2015

जो घट अंतर हरि सुमिरै




जो घट अंतर हरि सुमिरै .
ताको काल रूठि का करिहै
जे चित चरन धरे ..
हरि सुमिरे

राम सिया राम जय जय राम सिया राम

सहस बरस गज युद्ध करत भयै
छिन एक ध्यान धरै .
चक्र धरै वैकुण्ठ से धायै
बाकी पैंज सरे  ..
हरि सुमिरे

राम सिया राम जय जय राम सिया राम

जहँ जहँ दुसह कष्ट भगतन पर
तहं तहँ सार करै .
सूरजदास श्याम सेवै ते
दुष्तर पार करे ..
हरि सुमिरे

राम सिया राम जय जय राम सिया राम

जो घट अंतर हरि सुमिरै .
ताको काल रूठि का करिहै
जे चित चरन धरे ..
हरि सुमिरे

राम सिया राम जय जय राम सिया राम

No comments:

Post a Comment