http://feeds.feedburner.com/blogspot/GKoTZ

Sunday, October 16, 2016

रामायण के चौपाई -मंत्र Ramayan Chopai mantra



रामायण की चौपाई से जीवन के कुछ महत्वपूर्ण मंत्र ! यदि आप इन मंत्रो का अपने जीवन मे प्रयोग करेंगे तो प्रभु श्री राम आप के जीवन को सुखमय बना देगे !!

रक्षा के लिए
मामभिरक्षक रघुकुल नायक ! घृत वर चाप रुचिर कर सायक !!

विपत्ति दूर करने के लिए
राजिव नयन धरे धनु सायक ! भक्त विपत्ति भंजन सुखदायक !!

सहायता के लिए
मोरे हित हरि सम नहि कोऊ ! एहि अवसर सहाय सोई होऊ !!
सब काम बनाने के लिए
वंदौ बाल रुप सोई रामू ! सब सिधि सुलभ जपत जोहि नामू !!
वश मे करने के लिए
सुमिर पवन सुत पावन नामू ! अपने वश कर राखे राम !!
संकट से बचने के लिए
दीन दयालु विरद संभारी ! हरहु नाथ मम संकट भारी !!
विघ्न विनाश के लिए
सकल विघ्न व्यापहि नहि तेही ! राम सुकृपा बिलोकहि जेहि !
रोग विनाश के लिए
राम कृपा नाशहि सव रोगा ! जो यहि भाँति बनहि संयोगा !!
ज्वर ताप दूर करने के लिए
 दैहिक दैविक भोतिक तापा ! राम राज्य नहि काहुहि व्यापा !!
दुःख नाश के लिए 
राम भक्ति मणि उस बस जाके ! दुःख लवलेस न सपनेहु ताके !!
खोई चीज पाने के लिए 


गई बहोरि गरीब नेवाजू ! सरल सबल साहिब रघुराजू !!
अनुराग बढाने के लिए 
सीता राम चरण रत मोरे ! अनुदिन बढे अनुग्रह तोरे !!
घर मे सुख लाने के लिए
 जै सकाम नर सुनहि जे गावहि ! सुख सम्पत्ति नाना विधि पावहिं !!
सुधार करने के लिए
मोहि सुधारहि सोई सब भाँती ! जासु कृपा नहि कृपा अघाती ! 
विद्या पाने के लिए
गुरू गृह पढन गए रघुराई ! अल्प काल विधा सब आई !!
सरस्वती निवास के लिए
जेहि पर कृपा करहि जन जानी ! कवि उर अजिर नचावहि बानी !!
निर्मल बुध्दि के लिए
ताके युग पदं कमल मनाऊँ ! जासु कृपा निर्मल मति पाऊँ !!
मोह नाश के लिए
होय विवेक मोह भ्रम भागा ! तब रघुनाथ चरण अनुरागा !!
प्रेम बढाने के लिए
सब नर करहिं परस्पर प्रीती ! चलत स्वधर्म कीरत श्रुति रीती !!
प्रीती बढाने के लिए
बैर न कर काह सन कोई ! जासन बैर प्रीति कर सोई !!
सुख प्रप्ति के लिए
अनुजन संयुत भोजन करही ! देखि सकल जननी सुख भरहीं !!
भाई का प्रेम पाने के लिए
सेवाहि सानुकूल सब भाई ! राम चरण रति अति अधिकाई !!
बैर दूर करने के लिए
 बैर न कर काहू सन कोई ! राम प्रताप विषमता खोई !!
मेल कराने के लिए 


गरल सुधा रिपु करही मिलाई ! गोपद सिंधु अनल सितलाई !!
शत्रु नाश के लिए
जाके सुमिरन ते रिपु नासा ! नाम शत्रुघ्न वेद प्रकाशा !!
रोजगार पाने के लिए
विश्व भरण पोषण करि जोई ! ताकर नाम भरत अस होई !!
 इच्छा पूरी करने के लिए
राम सदा सेवक रूचि राखी ! वेद पुराण साधु सुर साखी !!
पाप विनाश के लिए
पापी जाकर नाम सुमिरहीं ! अति अपार भव भवसागर तरहीं !!
अल्प मृत्यु न होने के लिए
अल्प मृत्यु नहि कबजिहूँ पीरा ! सब सुन्दर सब निरूज शरीरा !!
दरिद्रता दूर के लिए 
नहि दरिद्र कोऊ दुःखी न दीना ! नहि कोऊ अबुध न लक्षण हीना !!
प्रभु दर्शन पाने के लिए
अतिशय प्रीति देख रघुवीरा ! प्रकटे ह्रदय हरण भव पीरा !!
शोक दूर करने के लिए
नयन बन्त रघुपतहिं बिलोकी ! आए जन्म फल होहिं विशोकी !!
क्षमा माँगने के लिए
अनुचित बहुत कहहूँ अज्ञाता ! क्षमहुँ क्षमा मन्दिर दोऊ भ्राता !

Wednesday, October 5, 2016

तूने मुझे बुलाया शेरावालिये Tune Mujhe Bulaya Sherawaliye [Full Song] Bhents From Films

तूने मुझे बुलाया शेरावालिये  
 Tune Mujhe Bulaya Sherawaliye
दुर्गा भजन 
Kaalu jytawaali maata, teri jai jia kaar
Tune mujhe bulaye sherawaaliye, mein aya mein aya sherawaaliye
Oh jyotawaaliye, paharwaaliye, oh meherawaaliye
Tune mujhe bulaye sherawaaliye, mein aya mein aya sherawaaliye
saara jag hai ik banjaara, sab kii manzil tere dwaara
ouchey parbat lamba rasta, par mein rehana paaya sherawaaliye
 


Tune mujhe bulaye sherawaaliye, mein aya mein aya sherawaaliye
sune mann mein ja gayi baati, tere path mein mil gayi saathi
muh kholum kya tujha se mangu, bin mange sab paaya sherawaaliye
Tune mujhe bulaye sherawaaliye, mein aya mein aya sherawaaliye
kaun hai raaja kaun bikharim ek baarabar tere sare pujari
tune sab ko darshan deke, apne gale lagaya sherawaaliye
Tune mujhe bulaye sherawaaliye, mein aya mein aya sherawaaliye
oh prem se bolo jai maata di,
o sare bolo, o aate bolo, o jate bolo,
o kasht nivare, o paar utaare,
mere maa bholi, barde jholi,
o jode darpan, maa de de darshan
jai maata di
o maharawali ki jai
o shrawaliya ki jai jai ambe rani ki jai
Jai sherawali, jai Ambe rani
o paharawale ki jai

Tuesday, October 4, 2016

जय माँ वैष्णो देवी Jai Maa Vaishno Devi | Vaishno Devi Aarti in Hindi with Lyrics | Bhakti ...

जय माँ  वैष्णो देवी
 Jai Maa Vaishno Devi 
Vaishno Devi Aarti 
shri Vaishno Mata Aarti in hindi
Vaishno Mata Aarti
!! Jai Vaishno Mata Maiya Jai Vaishno Mata,
Hath Jod Tere Aage, Aarti Mai Gata,
Jai Vaishno Mata , Maiya Jai Vaishno Mata !!
!! Shish Pe Chattra Biraje, Muratiya Pyari,
Ganga Bahti Charanan, Jyoti Jge Nyari,
Jai Vaishno Mata , Maiya Jai Vaishno Mata !!
!! Brahma Ved Padhe Nit Dvare, Shankar Dhyan Dhare,
Sevak Chavar Dulavat, Naarad Nritya Kare,
Jai Vaishno Mata, Maiya Jai Vaishno Mata !!
!! Sundar Gufa Tumhari, Man Ko Ati Bhave,
Baar-Baar Dekhan Ko, Aye Maa Man Chave,
Jai Vaishno Mata ,Maiya Jai Vaishno Mata !!
!! Bhavan Pe Jhande Jhoole, Ghanta Dhvani Baje,
Uncha Parvat Tera, Mata Priy Lage,
Jai Vaishno Mata, Maiya Jai Vaishno Mata !!
!! Paan Supari Dhvaja Nariyal, Bhent Pushp Meva,
Daas Khade Charano Mein, Darshan Do Deva,
Jai Vaishno Mata, Maiya Jai Vaishno Mata !!
!! Jo Jan Nishchay Karke, Dvaar Tere Aave,
Uski Ichchha Puran Mata Ho Jave,
Jai Vaishno Mata, Maiya Jai Vaishno Mata !!
!! Itani Stuti Nishdin, Jo Nar Bhi Gave,
Kahte Sevak Dhyanu, Sukh Sampati Pave,
Jai Vaishno Mata, Maiya Jai Vaishno Mata !!



वैष्णो माता आरती
!! जै वैष्णो माता, मैया जै वैष्णो माता ,
हाथ जोड़ तेरे आगे, आरती मैं गाता,
जै वैष्णो माता, मैया जै वैष्णो माता !!
!! शीश पे छत्र बिराजे, मूरतिया प्यारी,
गंगा बहती चरनन, ज्योति जगे न्यारी,
जै वैष्णो माता, मैया जै वैष्णो माता !!
!! ब्रह्मा वेद पढ़े नित द्वारे, शंकर ध्यान धरे ,
सेवक चंवर डुलावत, नारद नृत्य करे,
जै वैष्णो माता, मैया जै वैष्णो माता !!
!! सुंदर गुफा तुम्हारी, मन को अति भावे,
बार-बार देखन को, ऐ मां मन चावे,
जै वैष्णो माता, मैया जै वैष्णो माता !!
!! भवन पे झण्डे झूले, घंटा ध्वनि बाजे,
ऊंचा पर्वत तेरा, माता प्रिय लागे,
जै वैष्णो माता, मैया जै वैष्णो माता !!
!! पान सुपारी ध्वजा नारियल, भेंट पुष्प मेवा,
दास खड़े चरणों में, दर्शन दो देवा ,
जै वैष्णो माता, मैया जै वैष्णो माता !!
!! जो जन निश्चय करके, द्वार तेरे आवे ,
उसकी इच्छा पूरण, माता हो जावे,
जै वैष्णो माता, मैया जै वैष्णो माता !!
!! इतनी स्तुति निशदिन, जो नर भी गावे,
कहते सेवक ध्यानू, सुख संपति पावे,
जै वैष्णो माता, मैया जै वैष्णो माता !!

ओम जय अम्बे गौरी Om Jai Ambe Gauri - Aarti | Lyrics in Hindi and English | Bhakti Songs

ओम जय अम्बे गौरी
 Om Jai Ambe Gauri
  Aarti
Bhakti Songs

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी
तुम को निस दिन ध्यावत
मैयाजी को निस दिन ध्यावत
हरि ब्रह्मा शिवजी .
बोलो जय अम्बे गौरी ..

माँग सिन्दूर विराजत टीको मृग मद को
मैया टीको मृगमद को
उज्ज्वल से दो नैना चन्द्रवदन नीको
बोलो जय अम्बे गौरी ..

कनक समान कलेवर रक्ताम्बर साजे
मैया रक्ताम्बर साजे
रक्त पुष्प गले माला कण्ठ हार साजे
बोलो जय अम्बे गौरी ..

केहरि वाहन राजत खड्ग कृपाण धारी
मैया खड्ग कृपाण धारी
सुर नर मुनि जन सेवत तिनके दुख हारी
बोलो जय अम्बे गौरी ..

कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती
 


मैया नासाग्रे मोती
कोटिक चन्द्र दिवाकर सम राजत ज्योति
बोलो जय अम्बे गौरी ..

शम्भु निशम्भु बिडारे महिषासुर धाती
मैया महिषासुर धाती
धूम्र विलोचन नैना निशदिन मदमाती
बोलो जय अम्बे गौरी ..

चण्ड मुण्ड शोणित बीज हरे
मैया शोणित बीज हरे
मधु कैटभ दोउ मारे सुर भय दूर करे
बोलो जय अम्बे गौरी ..

ब्रह्माणी रुद्राणी तुम कमला रानी
मैया तुम कमला रानी
आगम निगम बखानी तुम शिव पटरानी
बोलो जय अम्बे गौरी ..

चौंसठ योगिन गावत नृत्य करत भैरों
मैया नृत्य करत भैरों
बाजत ताल मृदंग और बाजत डमरू
बोलो जय अम्बे गौरी ..

तुम हो जग की माता तुम ही हो भर्ता
मैया तुम ही हो भर्ता
भक्तन की दुख हर्ता सुख सम्पति कर्ता
बोलो जय अम्बे गौरी ..

भुजा चार अति शोभित वर मुद्रा धारी
मैया वर मुद्रा धारी
मन वाँछित फल पावत देवता नर नारी
बोलो जय अम्बे गौरी ..

कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती
मैया अगर कपूर बाती
माल केतु में राजत कोटि रतन ज्योती
बोलो जय अम्बे गौरी ..

माँ अम्बे की आरती जो कोई नर गावे
मैया जो कोई नर गावे
कहत शिवानन्द स्वामी सुख सम्पति पावे
बोलो जय अम्बे गौरी ..

नवरात्रि के भजन Top 9 Morning Time Devi Mantra, Navratri Special Bhajans ..

नवरात्रि के भजन 
 Top 9 Morning Time Devi Mantra,
 Navratri Special Bhajans ..


Saturday, October 1, 2016

श्री दुर्गा सप्तशती - अनुराधा पोडवाल SHREE DURGA SAPTSHATI Sampadit by ANURADHA PAUDWAl

श्री दुर्गा सप्तशती 
- अनुराधा पोडवाल
 SHREE DURGA SAPTSHATI 
ANURADHA PAUDWAl


पूजनकर्ता स्नान करके, आसन शुद्धि की क्रिया सम्पन्न करके, शुद्ध आसन पर बैठ जाएं, साथ में शुद्ध जल, पूजन सामग्री और श्री दुर्गा सप्तशती की पुस्तक सामने रखें। इन्हें अपने सामने काष्ठ आदि के शुद्ध आसन पर विराजमान कर दें। माथे पर अपनी पसंद के अनुसार भस्म, चंदन अथवा रोली लगा लें, शिखा बांध लें, फिर पूर्वाभिमुख होकर तत्व शुद्धि के लिए चार बार आचमन करें। इस समय निम्न मंत्रों को बोलें-

ॐ ऐं आत्मतत्त्वं शोधयामि नमः स्वाहा।
ॐ ह्रीं विद्यातत्त्वं शोधयामि नमः स्वाहा॥
ॐ क्लीं शिवतत्त्वं शोधयामि नमः स्वाहा।
ॐ ऐं ह्रीं क्लीं सर्वतत्त्वं शोधयामि नमः स्वाहा॥

तत्पश्चात प्राणायाम करके गणेश आदि देवताओं एवं गुरुजनों को प्रणाम करें, फिर 'पवित्रेस्थो वैष्णव्यौ' इत्यादि मन्त्र से कुश की पवित्री धारण करके हाथ में लाल फूल, अक्षत और जल लेकर निम्नांकित रूप से संकल्प करें-

चिदम्बरसंहिता में पहले अर्गला, फिर कीलक तथा अन्त में कवच पढ़ने का विधान है, किन्तु योगरत्नावली में पाठ का क्रम इससे भिन्न है। उसमें कवच को बीज, अर्गला को शक्ति तथा कीलक को कीलक संज्ञा दी गई है।

ॐ विष्णुर्विष्णुर्विष्णुः। ॐ नमः परमात्मने, श्रीपुराणपुरुषोत्तमस्य श्रीविष्णोराज्ञया प्रवर्तमानस्याद्य श्रीब्रह्मणो द्वितीयपरार्द्धे श्रीश्वेतवाराहकल्पे वैवस्वतमन्वन्तरेऽष्टाविंशतितमे कलियुगे प्रथमचरणे जम्बूद्वीपे भारतवर्षे भरतखण्डे आर्यावर्तान्तर्गतब्रह्मावर्तैकदेशे पुण्यप्रदेशे बौद्धावतारे वर्तमाने यथानामसंवत्सरे अमुकामने महामांगल्यप्रदे मासानाम्‌ उत्तमे अमुकमासे अमुकपक्षे अमुकतिथौ अमुकवासरान्वितायाम्‌ अमुकनक्षत्रे अमुकराशिस्थिते सूर्ये अमुकामुकराशिस्थितेषु चन्द्रभौमबुधगुरुशुक्रशनिषु सत्सु शुभे योगे शुभकरणे एवं गुणविशेषणविशिष्टायां शुभ पुण्यतिथौ सकलशास्त्र श्रुति स्मृति पुराणोक्त फलप्राप्तिकामः अमुकगोत्रोत्पन्नः अमुक नाम अहं ममात्मनः सपुत्रस्त्रीबान्धवस्य श्रीनवदुर्गानुग्रहतो ग्रहकृतराजकृतसर्व-विधपीडानिवृत्तिपूर्वकं नैरुज्यदीर्घायुः पुष्टिधनधान्यसमृद्ध्‌यर्थं श्री नवदुर्गाप्रसादेन सर्वापन्निवृत्तिसर्वाभीष्टफलावाप्तिधर्मार्थ- काममोक्षचतुर्विधपुरुषार्थसिद्धिद्वारा श्रीमहाकाली-महालक्ष्मीमहासरस्वतीदेवताप्रीत्यर्थं शापोद्धारपुरस्परं कवचार्गलाकीलकपाठ- वेदतन्त्रोक्त रात्रिसूक्त पाठ देव्यथर्वशीर्ष पाठन्यास विधि सहित नवार्णजप सप्तशतीन्यास- धन्यानसहितचरित्रसम्बन्धिविनियोगन्यासध्यानपूर्वकं च 'मार्कण्डेय उवाच॥ सावर्णिः सूर्यतनयो यो मनुः कथ्यतेऽष्टमः।' इत्याद्यारभ्य 'सावर्णिर्भविता मनुः' इत्यन्तं दुर्गासप्तशतीपाठं तदन्ते न्यासविधिसहितनवार्णमन्त्रजपं वेदतन्त्रोक्तदेवीसूक्तपाठं रहस्यत्रयपठनं शापोद्धारादिकं च किरष्ये/करिष्यामि।

इस प्रकार प्रतिज्ञा (संकल्प) करके देवी का ध्यान करते हुए पंचोपचार की विधि से पुस्तक की पूजा करें, योनिमुद्रा का प्रदर्शन करके भगवती को प्रणाम करें, फिर मूल नवार्ण मन्त्र से पीठ आदि में आधारशक्ति की स्थापना करके उसके ऊपर पुस्तक को विराजमान करें। इसके बाद शापोद्धार करना चाहिए। इसके अनेक प्रकार हैं।

'ॐ ह्रीं क्लीं श्रीं क्रां क्रीं चण्डिकादेव्यै शापनाशागुग्रहं कुरु कुरु स्वाहा'

इस मंत्र का आदि और अन्त में सात बार जप करें। यह शापोद्धार मंत्र कहलाता है। इसके अनन्तर उत्कीलन मन्त्र का जाप किया जाता है।
इसका जप आदि और अन्त में इक्कीस-इक्कीस बार होता है। यह मन्त्र इस प्रकार है- 'ॐ श्रीं क्लीं ह्रीं सप्तशति चण्डिके उत्कीलनं कुरु कुरु स्वाहा।' इसके जप के पश्चात्‌ आदि और अन्त में सात-सात बार मृतसंजीवनी विद्या का जाप करना चाहिए, जो इस प्रकार है-

'ॐ ह्रीं ह्रीं वं वं ऐं ऐं मृतसंजीवनि विद्ये मृतमुत्थापयोत्थापय क्रीं ह्रीं ह्रीं वं स्वाहा।'

मारीचकल्प के अनुसार सप्तशती-शापविमोचन का मन्त्र यह है-

'ॐ श्रीं श्रीं क्लीं हूं ॐ ऐं क्षोभय मोहय उत्कीलय उत्कीलय उत्कीलय ठं ठं।'




इस मन्त्र का आरंभ में ही एक सौ आठ बार जाप करना चाहिए, पाठ के अन्त में नहीं। अथवा रुद्रयामल महातन्त्र के अंतर्गत दुर्गाकल्प में कहे हुए चण्डिका शाप विमोचन मन्त्र का आरंभ में ही पाठ करना चाहिए। वे मन्त्र इस प्रकार हैं-

ॐ अस्य श्रीचण्डिकाया ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापविमोचनमन्त्रस्य वसिष्ठ-नारदसंवादसामवेदाधिपतिब्रह्माण ऋषयः सर्वैश्वर्यकारिणी श्रीदुर्गा देवता चरित्रत्रयं बीजं ह्री शक्तिः त्रिगुणात्मस्वरूपचण्डिकाशापविमुक्तौ मम संकल्पितकार्यसिद्ध्‌यर्थे जपे विनियोगः।

ॐ (ह्रीं) रीं रेतःस्वरूपिण्यै मधुकैटभमर्दिन्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥1॥
ॐ श्रीं बुद्धिस्वरूपिण्यै महिषासुरसैन्यनाशिन्यै
ब्रह्मवसिष्ठ विश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥2॥
ॐ रं रक्तस्वरूपिण्यै महिषासुरमर्दिन्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥3॥
ॐ क्षुं धुधास्वरूपिण्यै देववन्दितायै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥4॥
ॐ छां छायास्वरूपिण्यै दूतसंवादिन्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥5॥
ॐ शं शक्तिस्वरूपिण्यै धूम्रलोचनघातिन्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥6॥
ॐ तृं तृषास्वरूपिण्यै चण्डमुण्डवधकारिण्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्र शापाद् विमुक्ता भव॥7॥
ॐ क्षां क्षान्तिस्वरूपिण्यै रक्तबीजवधकारिण्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥8॥
ॐ जां जातिस्वरूपिण्यै निशुम्भवधकारिण्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥9॥
ॐ लं लज्जास्वरूपिण्यै शुम्भवधकारिण्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥10॥
ॐ शां शान्तिस्वरूपिण्यै देवस्तुत्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥11॥
ॐ श्रं श्रद्धास्वरूपिण्यै सकलफलदात्र्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥12॥
ॐ कां कान्तिस्वरूपिण्यै राजवरप्रदायै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥13॥
ॐ मां मातृस्वरूपिण्यै अनर्गलमहिमसहितायै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥14॥
ॐ ह्रीं श्रीं दुं दुर्गायै सं सर्वैश्वर्यकारिण्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥15॥
ॐ ऐं ह्रीं क्लीं नमः शिवायै अभेद्यकवचस्वरूपिण्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥16॥
ॐ क्रीं काल्यै कालि ह्रीं फट् स्वाहायै ऋग्वेदस्वरूपिण्यै
ब्रह्मवसिष्ठविश्वामित्रशापाद् विमुक्ता भव॥17॥
ॐ ऐं ह्री क्लीं महाकालीमहालक्ष्मी-
महासरस्वतीस्वरूपिण्यै त्रिगुणात्मिकायै दुर्गादेव्यै नमः॥18॥
इत्येवं हि महामन्त्रान्‌ पठित्वा परमेश्वर।
चण्डीपाठं दिवा रात्रौ कुर्यादेव न संशयः॥19॥
 


एवं मन्त्रं न जानाति चण्डीपाठं करोति यः।
आत्मानं चैव दातारं क्षीणं कुर्यान्न संशयः॥20॥
इस प्रकार शापोद्धार करने के अनन्तर अन्तर्मातृका बहिर्मातृका आदि न्यास करें, फिर श्रीदेवी का ध्यान करके रहस्य में बताए अनुसार नौ कोष्ठों वाले यन्त्र में महालक्ष्मी आदि का पूजन करें, इसके बाद छ: अंगों सहित दुर्गासप्तशती का पाठ आरंभ किया जाता है।

कवच, अर्गला, कीलक और तीनों रहस्य- ये ही सप्तशती के छ: अंग माने गए हैं। इनके क्रम में भी मतभेद हैं। चिदम्बरसंहिता में पहले अर्गला, फिर कीलक तथा अन्त में कवच पढ़ने का विधान है, किन्तु योगरत्नावली में पाठ का क्रम इससे भिन्न है। उसमें कवच को बीज, अर्गला को शक्ति तथा कीलक को कीलक संज्ञा दी गई है।

जिस प्रकार सब मंत्रों में पहले बीज का, फिर शक्ति का तथा अन्त में कीलक का उच्चारण होता है, उसी प्रकार यहाँ भी पहले कवच रूप बीज का, फिर अर्गला रूपा शक्ति का तथा अन्त में कीलक रूप कीलक का क्रमशः पाठ होना चाहिए। यहाँ इसी क्रम का अनुसरण किया गया है।

(इसके बाद देवी कवच का पाठ करना चाहिए।)

॥ अथ देव्याः कवचम्‌ ॥

विनियोग
ॐ अस्य श्रीचण्डीकवचस्य ब्रह्मा ऋषिः, अनुष्टुप्‌ छन्दः, चामुण्डा देवता, अंगन्यासोक्तमातरो बीजम्‌, दिग्बन्धदेवतास्तत्त्वम्‌, श्रीजगदम्बाप्रीत्यर्थे सप्तशतीपाठांगत्वेन जपे विनियोगः।
॥ ॐ नमश्चण्डिकायै॥

मार्कण्डेय उवाच
ॐ यद्गुह्यं परमं लोके सर्वरक्षाकरं नृणाम्‌।
यन्न कस्यचिदाख्यातं तन्मे ब्रूहि पितामह॥1॥

ब्रह्मोवाच
अस्ति गुह्यतमं विप्र सर्वभूतोपकारकम्‌।
देव्यास्तु कवचं पुण्यं तच्छृणुष्व महामुने॥2॥
प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी।
तृतीयं चन्द्रघण्टेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम्‌॥3॥
पंचमं स्कन्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च।
सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम्‌॥4॥

नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः।
उक्तान्येतानि नामानि ब्रह्मणैव महात्मना॥5॥
अग्निता दह्यमानस्तु शत्रुमध्ये गतो रणे।
विषमे दुर्गमे चैव भयार्ताः शरणं गताः॥6॥
न तेषा जायते किंचिदशुभं रणसंकटे।
नापदं तस्य पश्यामि शोकदुःखभयं न हि॥7॥
यैस्तु भक्त्या स्मृता नूनं तेषां वृद्धि प्रजायते।
ये त्वां स्मरन्ति देवेशि रक्षसे तान्न संशयः॥8॥
प्रेतसंस्था तु चामुण्डा वाराही महिषासना।
ऐन्द्री गजसमानरूढा वैष्णवी गरुडासना॥9॥
माहेश्वरी वृषारूढा कौमारी शिखिवाहना।
लक्ष्मीः पद्मासना देवी पद्महस्ता हरिप्रिया॥10॥
श्वेतरूपधरा देवी ईश्वरी वृषवाहना।
ब्राह्मी हंससमारूढा सर्वाभरणभूषिता॥11॥
इत्येता मातरः सर्वाः सर्वयोगसमन्विताः।
नानाभरणशोभाढ्या नानारत्नोपशोभिताः॥12॥
दृश्यन्ते रथमारूढा देव्यः क्रोधसमाकुलाः।
शंख चक्रं गदां शक्तिं हलं च मुसलायुधम्‌॥13॥
खेटकं तोमरं चैव परशुं पाशमेव च।
कुन्तायुधं त्रिशूलं च शांर्गमायुधमुत्तमम्‌॥14॥
दैत्यानां देहनाशाय भक्तानामभयाय च।
धारयन्त्यायुधानीत्थं देवानां च हिताय वस॥15॥
नमस्तेऽस्तु महारौद्रे महाघोरपराक्रमे।
महावले महोत्साहे महाभयविनाशिनि॥16॥
त्राहि मां देवि दुष्प्रेक्ष्ये शत्रूणां भयवर्धिन।
प्राच्यां रक्षतु मामैन्द्री आग्नेय्यामग्निदेवता॥17॥
दक्षिणेऽवतु वाराहीनैर्ऋत्यां खड्गधारिणी।
प्रतीच्यां वारुणी रक्षेद् वायव्यां मृगवाहिनी॥18॥
उदीच्यां पातु कौमारी ऐशान्यां शूलधारिणी।
ऊर्ध्वं ब्रह्माणि मे रक्षेद्धस्ताद् वैष्णवी तथा ॥19॥
एवं दश दिशो रक्षेच्चामुण्डा शववाहना।
जया में चाग्रतः पातु विजया पातु पृष्ठतः॥20॥
अजिता वामपार्श्वे तु दक्षिणे चापराजिता।
शिखामुद्योतिनी रक्षेदुमा मूर्ध्नि व्यवस्थिता॥21॥
मालाधारी ललाटे च भ्रुवौ रक्षेद् यशस्विनी।
त्रिनेत्रा च भ्रुवोर्मध्ये यमघण्टा च नासिके॥22॥
शंखिनी चक्षुषोर्मध्ये श्रोत्रयोर्द्वारवासिनी।
कपोलौ कालिका रक्षेत्कर्णमूले च शांकरी॥23॥
नासिकायां सुगन्दा च उत्तरोष्ठे च चर्चिका।
अधरे चामृतकला जिह्वायां च सरस्वती॥24॥
दन्तान्‌ रक्षतु कौमारी कण्ठदेशे तु चण्डिका।
घण्टिकां चित्रघण्टा च महामाया च तालुके॥25॥
कामाक्षी चिबुकं रक्षेद् वाचं मे सर्वमंगला।
ग्रीवायां भद्रकाली च पृष्ठवंशे धनुर्धरी॥26॥
नीलग्रीवा बहिःकण्ठे नलिकां नलकूबरी।
स्कन्धयोः खड्गिनी रक्षेद् बाहू में व्रजधारिणी॥27॥
हस्तयोर्दण्डिनी रक्षेदम्बिका चांगुलीषु च।
नखांछूलेश्वरी रक्षेत्कुक्षौ रक्षेत्कुलेश्वरी॥28॥।
स्तनौ रक्षेन्महादेवी मनः शोकविनाशिनी।
हृदये ललिता देवी उदरे शूलधारिणी॥29॥
नाभौ च कामिनी रक्षेद् गुह्यं गुह्येश्वरी तथा।
पूतना कामिका मेढ्रं गुदे महिषवाहिनी॥30॥
कट्यां भगवती रक्षेज्जानुनी विन्ध्यवासिनी।
जंघे महाबला रक्षेत्सर्वकामप्रदायिनी॥31॥

गुल्फयोर्नारसिंही च पादपृष्ठे तु तैजसी।
पादांगुलीषु श्री रक्षेत्पादाधस्तलवासिनी॥32॥
नखान्‌ दंष्ट्राकराली च केशांश्चैवोर्ध्वकेशिनी।
रोमकूपेषु कौबेरी त्वचं वागीश्वरी तथा॥33॥
रक्तमज्जावसामांसान्यस्थिमेदांसि पार्वती।
अन्त्राणि कालरात्रिश्च पित्तं च मुकुटेश्वरी॥34॥
पद्मावती पद्मकोशे कफे चूडामणिस्तथा।
ज्वालामुखी नखज्वालामभेद्या सर्वसंधिषु॥35॥
शुक्रं ब्रह्माणि मे रक्षेच्छायां छत्रेश्वरी तथा।
अहंकारं मनो बुद्धिं रक्षेन्मे धर्मधारिणी॥36॥
प्राणापानौ तथा व्यानमुदानं च समानकम्‌।
वज्रहस्ता च मे रक्षेत्प्राणं कल्याणशोभना॥37॥
रसे रूपे च गन्धे च शब्दे स्पर्शे च योगिनी।
सत्त्वं रजस्तमश्चैव रक्षेन्नारायणी सदा॥38॥
आयू रक्षतु वाराही धर्मं रक्षतु वैष्णवी।
यशः कीर्तिं च लक्ष्मीं च धनं विद्यां च चक्रिणी॥39॥
गोत्रमिन्द्राणि मे रक्षेत्पशून्मे रक्ष चण्डिके।
पुत्रान्‌ रक्षेन्महालक्ष्मीर्भार्यां रक्षतु भैरवी॥40॥
पन्थानं सुपथा रक्षेन्मार्गं क्षेमकरी तथा।
राजद्वारे महालक्ष्मीर्विजया सर्वतः स्थिता॥41॥
रक्षाहीनं तु यत्स्थानं वर्जितं कवचेन तु।
तत्सर्वं रक्ष मे देवि जयन्ती पापनाशिनी॥42॥
पदमेकं न गच्छेतु यदीच्छेच्छुभमात्मनः।
कवचेनावृतो नित्यं यत्र यत्रैव गच्छति॥43॥
तत्र तत्रार्थलाभश्च विजयः सार्वकामिकः।
यं यं चिन्तयते कामं तं तं प्राप्नोति निश्चितम्‌।
परमैश्वर्यमतुलं प्राप्स्यते भूतले पुमान्‌॥44॥
निर्भयो जायते मर्त्यः संग्रामेष्वपराजितः।
त्रैलोक्ये तु भवेत्पूज्यः कवचेनावृतः पुमान्‌॥45॥
इदं तु देव्याः कवचं देवानामपि दुर्लभम्‌।
यः पठेत्प्रयतो नित्यं त्रिसन्ध्यं श्रद्धयान्वितः॥46॥
दैवी कला भवेत्तस्य त्रैलोक्येष्वपराजितः।
जीवेद् वर्षशतं साग्रमपमृत्युविवर्जितः॥47॥
नश्यन्ति व्याधयः सर्वे लूताविस्फोटकादयः।
स्थावरं जंगमं चैव कृत्रिमं चापि यद्विषम्‌॥48॥
अभिचाराणि सर्वाणि मन्त्रयन्त्राणि भूतले।
भूचराः खेचराश्चैव जलजाश्चोपदेशिकाः॥49॥
सहजा कुलजा माला डाकिनी शाकिनी तथा।
अन्तरिक्षचरा घोरा डाकिन्यश्च महाबलाः॥50॥
ग्रहभूतपिशाचाश्च यक्षगन्धर्वराक्षसाः।
ब्रह्मराक्षसवेतालाः कूष्माण्डा भैरवादयः॥51॥
नश्यन्ति दर्शनात्तस्य कवचे हृदि संस्थिते।
मानोन्नतिर्भवेद् राज्ञस्तेजोवृद्धिकरं परम्‌॥52॥
यशसा वर्धते सोऽपि कीर्तिमण्डितभूतले।
जपेत्सप्तशतीं चण्डीं कृत्वा तु कवचं पुरा॥53॥
यावद्भूमण्डलं धत्ते सशैलवनकाननम्‌।
तावत्तिष्ठति मेदिन्यां संततिः पुत्रपौत्रिकी॥54॥
देहान्ते परमं स्थानं यत्सुरैरपि दुर्लभम्‌।
प्राप्नोति पुरुषो नित्यं महामायाप्रसादतः॥55॥
लभते परमं रूपं शिवेन सह मोदते॥ॐ॥56॥


॥ इति देव्याः कवचं संपूर्णम्‌ ॥


मैं सांवरे के रंग राची Main Sanware Ke Rang - Hema Malini - Meera - Vani Jairam - Pt. Ravi Shan...

मैं सांवरे के रंग राची
 Main Sanware Ke Rang 
Meera
कृष्ण भजन 

साँवरे रंग राची राणा जी हूँ तो
बाँध घुँघरा प्रेम का हूँ तो
हरि के आगे नाची
साँवरे रंग राची

एक निरखत एक परखत है
एक करत मोरी हासी
और लोग म्हाअरी काईं करे सी
हूँ तो हरि जी प्रभु जी की दासी
साँवरे रंग राची

राणो विष को प्यालो भेजो
हूँ तो हिम्मत की काची
मीरा चरणा नागर की साँची

साँवरे रंग राची राणा जी हूँ तो
बाँध घुँघरा प्रेम का हूँ तो
हरि के आगे नाची
साँवरे रंग राची